How Long / कब तक (Hindi) Poem by Rajnish Manga

How Long / कब तक (Hindi)

Rating: 5.0

How Long by Susheela Shiju
Hindi Translation by Rajnish Manga
कब तक (मूल रचना: सुशीला शिजू)
हिंदी अनुवाद रजनीश मंगा द्वारा

जब तक मौत हमें अलग न कर दे
तुम सदा मेरा प्यार बन कर रहोगे
मुझे आज भी तुम्हारे चेहरे की ख़ुशी याद है
जब तुमने मुझे पहली बार देखा था

तुम्हारे एक प्रगाढ़ आलिंगन ने
मेरे खालीपन को भर दिया था
और जो ख़ुशी मुझे मिली थी
मेरे लिए वह कल्पनातीत ही है

फरिश्तो ने ऊपर से देखा
उन्होंने देखा तुम्हें और मुझे
उनको लगा कि हम दोनों
धरती को स्वर्ग बना देंगे

वे तुमसे व मुझसे जलने लग गए
उन्होंने ईश्वर को रोक दिया
हम दोनों को पवित्र बंधन में बंधने से
ओह वे ऐसा कैसे कर सकते हैं!

जब ईश्वर ने ऊपर से देखा
और देखा तुमको और मुझे
उसे लगा कि हम दोनों मिल कर
धरती पर स्वर्ग बना लेंगे

क्या ईश्वर भी हम दोनों से जलन रख सकता था
जो उसने फरिश्तों को इस बात से रोका कि हमारी प्रार्थनायें
उस तक पहुँच सकें
जो हमने प्रणय सूत्र में बंध जाने के लिए की थीं

अब हम है
तुम और मैं
पृथ्वी के दो अलग ध्रुवों की तरह
गहन प्यार है किंतु कुछ टूटन भी है

मैं अपनी पीड़ा का प्रतिदिन विवरण लिखती हूँ
और रात में तकिया ले कर रोती हूँ
कितनी लंबी और विरह की घड़ियाँ है
कितनी लंबी और ये टूटन रहनी है....

(Note: I am extremely grateful to Ms Susheela Shiju for having granted her permission to translate this wonderful poem into Hindi)

This is a translation of the poem How Long by Susheela Shiju
Thursday, September 24, 2020
Topic(s) of this poem: disappointment,heartbreak,hindi,loneliness,love and life,translation
COMMENTS OF THE POEM
Aarzoo Mehek 24 September 2020

????? ??????? ???? ?????? ???? ??? ?? ???? ???? ??????? ?? ??? ?????? ???? ????? ????? ??? ?????? ?? ??? ?? ????? ???? ?? ????? ????? ??? ??? ?? ?? ???? ???? ????? ?? ??? ?? ???? ??++

0 0 Reply
Susheela Shiju 26 December 2020

Thank you so much Rajnish Sir for this wonderful translation

0 0 Reply
M Asim Nehal 26 September 2020

???? ????? ??? ????? ??? ????? ?? ???? ????? ??? ?????? ???????? ?? ???? ?????? ?? ???? ?????? ?? ?? ??? ?? ??? ???, ????? ????? ?? ?????? ?? ?????? ???? ???? ??, ????????? ?? ???? ?? ?? ?? ???? ???????? ????? ?? ????? ???? ???? ?????? ?? ???? ?????? ???? ??, ?? ???? ???? ??? ???? ????? ???? ??? ???? ??? ???????? 100****

0 0 Reply
Kumarmani Mahakul 24 September 2020

The translation in hindi of poem 'How Long / Kab Tak' made by you is so delectable and impressive. Each and every line is interesting to read. This poem is a great philosophical poem well executed by Susheela Shiju which says much about body and soul, love and life. Well done Manga ji. Many thanks to you both. Five votes.

0 0 Reply
Varsha M 24 September 2020

Is kavita ka aanuwad bahut sundar tareke se pure laye me aapne har bhav ko bakhubi piroya hai mano jaise aankho dekha haal bya kar rahe hoon aap. Maan ko choo liye. Dhanyawad.

0 0 Reply
Sharad Bhatia 24 September 2020

?????? ???? ??????, ?? ?? ??????? ????? ?? ?????? ?? ?????? ?? ???? ??? ?? ????? ???? ?? ????? ?? ??? ???? ?? ???? ????-???? ???? ?? ???? ???? ?????? ?? ????? ?? ?????? ?? ?? ??????? ?? ???? ???? ?????? ???? ?? ?? ????? ?? ?????? ?? ?? ???? ?????? ?? ????? ???? ???? ?? ???? ?????

0 0 Reply
Rajnish Manga

Rajnish Manga

Meerut / Now at Faridabad
Close
Error Success