NADIR HASNAIN


Do you like this poet?
5 person liked.
0 person did not like.


Click here to add this poet to your My Favorite Poets.


Comments about NADIR HASNAIN

more comments »
---
Read all 1 comments »
Best Poem of NADIR HASNAIN

शोर मची है है हंगामा हिन्दू मुस्लिम कहते हैं

शोर मची है है हंगामा हिन्दू मुस्लिम कहते हैं
ढोंगी मदारी गिरगिट जैसे लोग यहाँ भी रहते हैं

जिन्होंने अपनी बीवी को भी इज़्ज़त ना सम्मान दिया
ऐसे लोग महिलाओं के हक़ की बातें करते हैं



हम अहले ईमान हमारी ये पहचान शरीअत है
जीने का हर तौर तरीक़ा अमल ईमान शरीअत है

ये जुरअत तरमीम की तेरी जान मेरी लेसकती है
दख़्ल शरीअत में हरगिज़ मंज़ूर नहीं करसकते हैं

By: नादिर हसनैन

Read the full of शोर मची है है हंगामा हिन्दू मुस्लिम कहते हैं

PoemHunter.com Updates

[Report Error]